How to Confirm Pregnancy in Hindi – लक्षण और अन्य तरीके

गर्भावस्था के लक्षण प्रत्येक महिला में भिन्न होते हैं। आमतौर पर सबसे स्पष्ट संकेत मासिक धर्म (menstruation) की अनुपस्थिति है। ऐसे स्तिथि में किसी भी महिला के मन  में how to confirm pregnancy (in hindi) का सवाल उठता है।   

अगर आप गर्भधारण की कोशिश कर रहें है , तो प्रेगनेंसी के लक्षण के बारें में और जानकारी हासिल करें। 

क्या हैं पहले हफ़्ते के लक्षण? (1st week pregnancy symptoms in Hindi)

अत्यधिक थकान, स्तनों में सूजन, मतली या उल्टी, बार-बार  पेशाब आना, कुछ विशेष भोजन से विरूचि, nipples के आसपास की त्वचा का काला पड़ना ।

क्या हैं दूसरे सप्‍ताह के लक्षण? (2nd week pregnancy symptoms in Hindi)

दूसरे सप्‍ताह में महिला के पेट में भ्रूण की धड़कन की शुरुआत हो जाती है। गर्भवती के पेट और हाथ-पैरों के मांसपेशियों में ऐंठन शुरू हो जाती है और थकान सा लगता है । जैसे-जैसे गर्भाशाय का आकार बढ़ता जाता है , वैसे -वैसे मूत्राशय पर दबाव पड़ने लगता है।  इससे बार-बार पेशाब करने की इच्‍छा पैदा होती है।

क्या हैं पाँचवे सप्‍ताह के लक्षण? (5th week pregnancy symptoms in Hindi) 

थकान, सुबह में असहज बेचैनी महसूस करना, स्तन में सूजन, भोजन खाने की इच्छा, पेट में  मरोड़ होना, बार-बार पेशाब करना , ऐंठन,और स्वाभाव में बदलाव ऐसे कुछ लक्षण है। 

“याद रहे इनमें से कोई भी लक्षण तय नहीं कर सकता की आप सच में गर्भवती है या नहीं, “कहती है सीताराम भारतिया हॉस्पिटल की डॉक्टर अनीता सभरवाल आनंद जो गर्भावस्था और नॉर्मल डिलिवरी की विषेयज्ञ है।  

 प्रेगनेंसी की पुष्टि करने के लिए आप विभिन्न  प्रकार के गर्भावस्था परीक्षण (pregnancy test) का इस्तेमाल कर सकती है जैसे, 

  • मूत्र परीक्षण  (urine pregnancy test): How to Confirm Pregnancy (in Hindi) at Home (कैसे करें घर भैठे प्रेगनेंसी की जाँच )

निजी और सुविधाजनक होने के साथ, home pregnancy test एक ऐसा तरीका है जिससे  गर्भावस्था का परिणाम तुरंत मिल जाता है।

यह human Chorionic Gonadotrophin or hCG हार्मोन की उपस्थिति का पता लगाता हैं। यह एक हार्मोन है जो नाल द्वारा निषेचन (fertilization) के लगभग 10 दिन बाद बनना शुरू होता है। गर्भावस्था के पहले 60 दिनों के दौरान hCG हार्मोन का स्तर हर दो दिन में लगभग दोगुना हो जाता है।

आप मूत्र परीक्षण या home pregnancy test को किसी भी कैमिस्ट से खरीद सकते है।  इसका इस्तेमाल करने के लिए प्रेगनेंसी टेस्ट के अनुदेश ध्यान से पढ़ें या निम्नलिखित कदम उठाए:

प्रेगनेंसी टेस्ट का प्रयोग माहवारी की तारीक छूट जाने के 2 – 10 दिन बाद करें ।

  1. सुबह के पहले पेशाब में इस टेस्ट का प्रयोग करें।  शुरुआती पेशाब की धारा को बहने दे और एक साफ़ कप में इकट्ठा करें ।  
  2. Dropper के ज़रिये पेशाब  के दो बूँदको गड्ढे जैसे निशानी में डालें ।
  3. इसके बाद टेस्ट को दिए गए अनुदेश के हिसाब से कुछ समय छोड़ दें। परिणाम समझने के लिए दिए गए अनुदेश का प्रयोग करें। 

अगर आपका परिणाम ‘pregnant ‘ दिखाता है, तभी आपको गायनकोलॉजिस्ट के पास चेक-अप के लिए जाना चाहिए।  

अपने भलें के लिए , टूथपेस्ट या डेंटल क्रीम प्रेगनेंसी टेस्ट (toothpaste pregnancy test) का प्रयोग बिलकुल न करें क्योंकि इनका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।  

“यदि आपके घर पर गर्भावस्था के परीक्षण के परिणाम नकारात्मक होते हैं, और आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं, तो आपको अपने गायनकोलॉजिस्ट की सलाह लेनी चाहिए,” कहती है डॉक्टर अनीता।  

  • प्रेगनेंसी हार्मोन के लिए रक्त परीक्षण (blood test)

यह  गर्भावस्था परीक्षण hCG के लिए जाँच करता है। इस टेस्ट द्वारा urine test के मुक़ाबले और जानकारी मिल सकती है। गर्भाधान के 10 दिनों के बाद डॉक्टर अक्सर गर्भावस्था की पुष्टि करने के लिए इन परीक्षणों का आदेश देते हैं। 

आपकी गायनकोलॉजिस्ट आपको गर्भावस्था समंभंदित और भी परिक्षण का सुझाव देंगी। 

  • ट्रांस वैजिनल अल्ट्रासाऊंड स्कैन (Trans-vaginal ultrasound scan)

प्रेगनेंसी की पुष्टि करने के लिए आपकी गायनकोलॉजिस्ट trans-vaginal ultrasound स्कैन की सलाह दे सकती है । यह लगभग माहवारी की अनुपस्थिति के 6 – 7 हफ़्ते बाद किया जाता है ।

इस अल्ट्रासाऊंड में, योनि के रास्ते, मशीन द्वारा संपूर्ण चित्र दिखते है। इससे गर्भधारण के आलावा एक से ज़्यादा शिशु और प्रेगनेंसी के स्वास्थ्य के बारे में भी पता चल जाता है।

अपने घर पर किये गए गर्भावस्ता परिक्षण की पुष्टि How to Confirm Pregnancy (in Hindi) करने के लिए गयनेकोलॉजिस्ट से संपर्क में रहें। हर कदम पर और अधिक जानकारी पाने के लिए आप नई दिल्ली के हॉस्पिटल सीताराम भारतिया  में आ सकते हैं।

This post was last modified on January 21, 2020 5:00 pm