प्रेगनेंसी टेस्ट – कैसे करें इसका सही उपयोग?

ज़्यादातर महिलाए आज कल गर्भवती होने का प्रमाण प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) द्वारा निकाल लेतीं हैं|

“यह ज़रूरी नहीं की शारीरिक बदलाव गर्भावस्था के लक्षण हो इसलिए अपने डॉक्टर से जल्द जाँच कराए” सीताराम भरतिया के डॉक्टर पायल चौधरी ने कहा|

प्रेगनेंसी टेस्ट कब करें?

माहवारी न होना, पेट के निचले हिस्से में दर्द, उलटी महसूस होना आदि गर्भावस्था के कुछ लक्षण हैं|

गर्भवती होने पर आपके शरीर में हो रहे बदलाव (pregnancy symptoms) सही समय पर प्रेगनेंसी टेस्ट कराने के संकेत है|

प्रेगनेंसी टेस्ट (pregnancy test in hindi) का सही इस्तेमाल

प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल किट में दिए गए निर्देशों के अनुसार ही किया जाना चाहिए|”

प्रेगनेंसी टेस्ट के सही उपयोग के लिए कुछ चीज़ों को ध्यान में रखें –

  1. प्रेगनेंसी टेस्ट से human Chorionic Gonadotrophin (hCG) नामक हॉर्मोन का पता लगाता है| यह हॉर्मोन गर्भवती महिलाओं के खून और मूत्र में पाया जाता है| यह जाँच आप घर पर ही कर सकते हैं|
  2. माहवारी न होने के 2-3 दिन के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट कराना सही होता है|
    “यदि आप टेस्ट किट के उपयोग का इंतज़ार नहीं कर सकतें तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें|”
  3. टेस्ट करने से पहले यदि आप बहुत ज़्यादा मात्रा में पानी पीतें हैं तो मूत्र पतली हो जाती है| इस वजह से भी कई बार false negative प्रेगनेंसी टेस्ट रिजल्ट्स निकलते है| 
  4. अगर आपको माहवारी अनियमित तरीके से होता है तो आपको प्रेगनेंसी टेस्ट दोबारा करवाना पड़ सकता है|

    “अनियमित माहवारी की वजह से गर्भधारण देरी में हो सकता है (delayed conception)|” 2-3 हफ़्तों बाद फिरसे टेस्ट करवाए|

यदि आपको टेस्ट के परिणाम पर भरोसा न हो या negative परिणाम के बाद भी आपको संदेह हो तो हमारे डॉक्टरों के साथ नि: शुल्क नियुक्ति निर्धारित करें। नीचे दिए गए फॉर्म को भरें और नि: शुल्क नियुक्ति को ठीक करने के लिए हम आपसे संपर्क करेंगे।

Name (required)

Email (required)

Phone No. (required)

Best time to call

Liked this post? Rate it now:

START TYPING AND PRESS ENTER TO SEARCH