3-month-pregnancy-in-hindi

3 Month Pregnancy (in Hindi) – आप और आपके शिशु में बदलाव

5/5 (1)

3 month pregnancy (in hindi) के दौरान रीया मलिक, 27, ने अपने और अपने शिशु के स्वस्थ सेहत के लिए डॉक्टर से परामर्श किया|

“गर्भावस्था के लक्षण जैसे – थकान, उल्टी महसूस होना और भूख में कमी का होना – इन सभी से तीसरे महीने में आराम मिलना शुरू हो जाता हैं,” सीताराम भरतिया के डॉक्टर पायल चौधरी ने कहा|

यह सुनके रीया खुश हुई और अपने 3 month pregnancy (in hindi) से संबंधित कुछ और अहम सवाल भी पूछें|

जाँच के समय रीया के मन में सबसे पहले अपने शिशु के विकास पर सवाल उठे|

3 month pregnancy (in hindi) में शिशु का विकास

तीसरे महीने के अंत तक शिशु के हाथ, पैर और उंगलिया पूर्ण रूप से बन जाते हैं| वह अपनी मुट्ठी और मुंह भी खोल-बंद करने लगता है|

“इस समय पर शिशु लगभग एक मटर की गठिया जितनी छोटी होती है| शिशु का माप लगभग 5-6 cms और वज़न 28 gm हो जाएगा|”

शिशु का पूरी तरह बढ़ जाने पर missed abortion या threatened abortion की संभावना कम हो जाती हैं|

3 month pregnancy (in hindi) में शारीरिक बदलाव

इसके अतिरिक्त रीया ने अपने शरीर में हो रहे परिवर्तन की जानकारी डॉक्टर से मांगी-

1. स्तन में सूजन

आपके शरीर में हार्मोनल बदलाव की वजह से पहले तिमाही में आपका स्तन बढ़ने लगता है और नाज़ुक भी हो सकता है|

“इस वजह से सही ब्रा पहनने से आपके नाज़ुक स्तन को आराम मिलेगा| इसके लिए कोई भी दवाई लेने की ज़रुरत नहीं पढ़ती|”

2. लगातार पेशाब आना

3 month pregnancy (in hindi) के दौरान आपका शौचालय जाना बढ़ सकता है| कॉफ़ी, हरी और काली चाय, सॉफ्ट ड्रिंक्स से परहेज़ करें क्योंकि इन में कैफीन ज़्यादा होता है| इनसे पेशाब करने की इच्छा बढ़ जाती है|

यदि पेशाब करते समय दर्द या जलन हो तो जल्द अपने डॉक्टर से जाँच कराए|

3. पीठ दर्द और थकान

“तीसरे महीने में पीठ दर्द और थकान से राहत पाने के लिए नियमित तौर पर व्यायाम करे|”

अगर आप काम पर हो तो समय-समय पर ब्रेक लें या टहलें| पौष्टिक आहार भी आपके शरीर से थकान दूर करने में मदद करता है|

4. अक्सर मन बदलना

“इस समय भावनाओ में बदलाव आना स्वाभाविक बात है|” डॉक्टर ने रीया को इन दिनों अपने परिवार का प्यार और सहारे पर भरोसा करने को कहा|

जीवनशैली में बदलाव

रीया ने अपने 3 month pregnancy में सुधार लाने के लिए प्रेगनेंसी टिप्स माँगे| डॉक्टर पायल ने कहा, “गर्भावस्थ होना कोई रोग नहीं है इसलिए आप अपने रोज़-मर्रा के काम जारी रख सकते हैं|”

यह ज़रूरी है की खुद को इस समय पर और सुडौल और सहनशील बनाएं ताकि नॉर्मल डिलीवरी में कम से कम परेशानी हो| “ताकत बढ़ाने के लिए रोज़ नियमित तौर पर 30 मिनट व्यायाम या योग करें|”

Pregnancy care (in hindi) के लिए सबसे पहले अपने आहार में परिवर्तन लाए|

यदि आपके खाने की इच्छा लौट आए तो अपने  dietician से परामर्श करें और नीचे दिए गए आहार चार्ट को अपने रोज़-मर्रा की ज़िन्दगी में शामिल करें –

3-month-pregnancy-diet-chart

अहम 3 month pregnancy (in hindi) स्कैन और टेस्ट

गर्भावस्था के पहले तिमाही में nuchal translucency स्कैन शिशु के Down’s syndrome जैसे आनुवंशिक (genetic) या chromosomal समस्याओं का जाँच करता है|

“इस स्कैन को 11 से 13 हफ़्तों और 6 दिनो के अंदर करा लेना चाहिए| Nuchal translucency स्कैन के साथ डॉक्टर एक ब्लड टेस्ट (double marker test) भी करेंगे|”

अपने सवालों का जवाब सुनकर सन्तुष्ट होकर रीया ने डॉक्टर के सलाह से अपना स्कैन जल्द करा लिया|

Liked this post? Rate it now:

START TYPING AND PRESS ENTER TO SEARCH